पुरूषों की सेक्स समस्या

सेक्स समस्या क्या है? (What is Sex Problem or Sexual Dysfunction?), सेक्स समस्या के लक्षण क्या हैं? (What Are The Symptoms of Sex Problem?), सेक्स समस्या के कारण क्या हैं? (What Are The Causes of Sex Problem?), सेक्स समस्या की पहचान क्या है? (What Are Sex Problem’s Signs?) सेक्स समस्या का इलाज कैसे किया जाता है? (How Does Treatment of Sex Problem?), सेक्स समस्या के इलाज की जरूरत किसे पड़ती है? (Who Needs Treatment of Sex Problem?), सेक्स समस्या के इलाज के लिए कौन योग्य नहीं है? (Who is Not Undeserving to Treatment of Sex Problem?), क्या सेक्स समस्या के इलाज के कोई साइड इफेक्ट भी हैं? (Are There Any Side Effects of Treatment of Sex Problem?), सेक्स समस्या के इलाज के बाद रोगी को क्या जरूरी दिशा-निर्देश दिये जाते हैं? (What Are The Necessary Guidelines Given to The Patient After Treatment of Sex Problem?), सेक्स समस्या के इलाज में कितना समय लगता है? (How Much Time Take in Treatment of Sex Problem), भारत में सेक्स समस्या के इलाज का खर्च कितना है? (How Much is The Cost of Treatment of Sex Problem In India?), क्या सेक्स समस्याओं का स्थाई इलाज होता है? (Is There a Permanent Cure For Sex Problems?), सेक्स समस्याआ के उपचार में विकल्प क्या हैं? (What Are The Options in The Treatment of Sex Problem?), सेक्स समस्या के लिए अच्छी जड़ी-बूटी कौन सी है? (Good Herbs For Sex Problem Which Is?), सेक्स समस्या के प्राकृतिक इलाज क्या हैं? (What Are The Natural Cures For Sex Problem?).

आज के समय में 10 में से 7 नवयुवक/पुरूष, सेक्स समस्याओं (Male Sexual Problems) से परेशान हैं। सही जानकारी न होने पर वे नीम हकीमों के चक्कर में पड़ जाते हैं, जिससे फायदे की बजाय नुकसान ज्यादा होता है। आइये जानते हैं कि ‘सेक्स समस्या‘ (Sex Problem/Sexual Dysfunction) क्या है?, सेक्स समस्या के लक्षण (Symptoms) क्या हैं?, सेक्स समस्या के कारण (Causes) क्या हैं? सेक्स समस्या की पहचान क्या है?, सेक्स समस्या का इलाज (Treatment) कैसे किया जाता है?, सेक्स समस्या के इलाज की जरूरत किसे पड़ती है?, सेक्स समस्या के इलाज के लिए कौन योग्य (Able) नहीं है?, क्या सेक्स समस्या के इलाज का कोई साइड इफेक्ट (Side Effects) भी है?, सेक्स समस्या के इलाज के बाद रोगी को क्या जरूरी दिशा-निर्देश (Post Treatment Guidelines) दिये जाते हैं?, सेक्स समस्या के इलाज में कितना समय लगता है?, भारत में सेक्स समस्या के इलाज का खर्च कितना है?, क्या सेक्स समस्या का स्थाई (Permanent) इलाज होता है?, सेक्स समस्या के उपचार में विकल्प (Option) क्या हैं?, सेक्स समस्या के लिए अच्छी जड़ी-बूटी कौन सी हैं?, सेक्स समस्या का प्राकृतिक (Natural) इलाज क्या है?

सेक्स समस्या क्या है?

सेक्स (Sex) के दौरान स्त्री-पुरूष (Male-Female) का शारीरिक कमियों व कमजोरियों के कारण असंतुष्ट (Unsatisfied) रह जाना ही सेक्स समस्या है। जो पुरूष, स्त्री को सेक्स व संभोगकाल में चरमसुख (Orgasm) प्रदान नहीं करा पाता, तो वह पुरूष सेक्स समस्या से पीड़ित माना जायेगा।
जब स्त्री-पुरूष, पति-पत्नी सेक्स करते हैं, तो इसमें सबसे ज्यादा जरूरी होता है आनंद यानी चरमसुख (Orgasm) प्राप्त होना और सेक्स में चरम तभी प्राप्त होगा, जब पुरूष को कोई सेक्स समस्या न हो। जब पुरूष पूरी तरह सेक्स समस्या से मुक्त व स्वस्थ होगा, तभी वह अपनी पार्टनर को संतुष्ट कर पायेगा और स्वयं भी आनंद ले पायेगा।
सेक्स समस्या कई प्रकार की हो सकती है जैसे- स्तंभन दोष/तनाव की कमी (Erectile Dysfunction), नपुंसकता/नामर्दी (Impotency/Impotence), शीघ्रपतन (Early Discharge, Premature Ejaculation), सेक्स इच्छा में कमी (Loss of Libido/Low Sex Drive), शुक्रमेह/धातु रोग (Spermatorrhoea), लिंग का छोटापन (Penis Enlargement), वीर्य कम बनना,  वृषण दोष (Male Hypogonadism), स्वप्नदोष (Nightfall, Night Emission), बिना स्वप्न के वीर्यपात (Night Discharge), निल शुक्राणु (Azoospermia), शुक्राणु कम बनना (Oligospermia), बाधित स्खलन (Delayed or Inhibited Ejaculation) आदि।

सेक्स समस्या के लक्षण क्या हैं?

शीघ्रपतन यानी चरम पर पहुंचन से पहले ही वीर्य निकल जाना, इरेक्शन (तनाव न आना) की परेशानी और सेक्स इच्छा में कमी, ये सेक्स समस्या के सामान्य लक्षण हैं। इसके अलावा ये कुछ लक्षण हैं, जिनसे सेक्स समस्या की पहचान की जा सकती है।
(क.) कुछ समय के लिए लिंग में उत्तेजना आना।
(ख.) सेक्स की इच्छा ही समाप्त हो जाना।
(ग.) चरमसुख तक पहुंचने में असफल रहना।
(घ.) सेक्स पर पूरी तरह ध्यान केन्द्रित न कर पाना।
तो ये हैं कुछ लक्षण जिनसे पुरूष के सेक्स समस्या की पुष्टि की जा सकती है और जिनका इलाज समय रहते करवाना अनिवार्य है।

सेक्स समस्या के कारण क्या हैं?

वैसे तो कई कारण हैं, जो सेक्स समस्या उत्पन्न कर सकते हैं। जैसे कि शारीरिक कारणों की अवस्था में मोटापा (Obesity), उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure), दिल से संबंधित बीमारी, मधुमेह (Diabetes/sugar), हाई कोलेस्ट्राॅल (High cholesterol), धमनियों में रूकावट (Atherosclerosis) आदि। इनके अतिरिक्त बढ़ा हुआ वजन, मानसिक चिंता, मदिरापान, अधिक उम्र, नशीली दवाओं का सेवन, लंबे समय तक दवाओं का सेवन करना, आधुनिक जीवन शैली, प्रदूषण आदि।
मानसिक कारणों की बात की जाये तो उत्तेजना की शुरूआत ही मस्तिष्क से होती है और सेक्स में मस्तिष्क का कनेक्शन भी बहुत अधिक प्रभाव डालता है। चिंता और तनाव मस्तिष्क में उत्तेजना को अधिक देर तक टिकने नहीं देता, जिसके परिणाम स्वरूप निम्न सेक्स समस्याएँ होने लगती हैं- स्तंभन दोष/तनाव की कमी (Erectile Dysfunction), नपुंसकता/नामर्दी (Impotency/Impotence), शीघ्रपतन (Early Discharge, Premature Ejaculation), सेक्स इच्छा में कमी (Loss of Libido/Low Sex Drive), शुक्रमेह/धातु रोग (Spermatorrhoea), लिंग का छोटापन/वीर्य कम बनना/वृषण दोष (Male Hypogonadism), स्वप्नदोष (Nightfall, Night Emission), बिना स्वप्न के वीर्यपात (Night Discharge), निल शुक्राणु (Azoospermia), शुक्राणु कम बनना (Oligospermia), बाधित स्खलन (Delayed or Inhibited Ejaculation) आदि।

सेक्स समस्या की पहचान क्या है?

यूं तो सेक्स समस्या की पहचान एक बार में केवल एक कारण को लेकर नहीं हो सकती है। इसकी पहचान कई रूपों में हो सकती है। जैसे- स्तंभन दोष/तनाव की कमी (Erectile Dysfunction), नपुंसकता/नामर्दी (Impotency/Impotence), शीघ्रपतन (Early Discharge, Premature Ejaculation), सेक्स इच्छा में कमी (Loss of Libido/Low Sex Drive), शुक्रमेह/धातु रोग (Spermatorrhoea), लिंग का छोटापन/वीर्य कम बनना/वृषण दोष (Male Hypogonadism), स्वप्नदोष (Nightfall, Night Emission), बिना स्वप्न के वीर्यपात (Night Discharge), निल शुक्राणु (Azoospermia), शुक्राणु कम बनना (Oligospermia), बाधित स्खलन (Delayed or Inhibited Ejaculation) आदि।
सबसे खास और बड़ी पहचान सेक्स समस्या की यह होती है कि पुरूष, हर कोशिश करने के बावजूद अपनी महिला साथी को संतुष्ट नहीं कर पाता है।

सेक्स समस्या का इलाज कैसे किया जाता है?

रोगी की पूरी शारीरिक व मानसिक जांच-पड़ताल के बाद ही चिकित्सक द्वारा सेक्स समस्या की वर्तमान स्थिति के अनुसार चिकित्सा की जाती है। जैसे लिंग की जांच, अंदरुनी शारीरिक कमजोरी या विकार की जांच, वीर्य की जांच, खान-पान से जुड़े प्रश्न व परहेज आदि।

1. मौखिक दवाओं से इलाज :
सेक्स समस्या के इलाज में पहली विधि होती है मौखिक दवाओं से इलाज करना। यानी इसमें रोगी की समस्या के अनुसार और रोगी के स्वास्थ्य को देखते हुए मुंह से खाने वाली दवाओं को दिया जाता हैै, जिससे लिंग में खून का बहाव यानी सर्कुलेशन का स्तर सही से बना रहता है। दवाओं की खुराक रोगी के रोगानुसार ही अलग-अलग होती हैं।
(1.) टेबलेट (Tablet), (2.) कैप्सूल (Capsule), (3.) चटनी (Chatni), (4.) ऑयल/तेल (Oil), (5.) चूर्ण (Powder).

2. मनोवैज्ञानिक सलाह :
कई पुरूष मानसिक रूप से परेशान व सताये हुए होते हैं, जिस कारण कोई शारीरिक कमजोरी या विकार न होने के बावजूद वह सेक्स समस्या से पीड़ित होते हैं, जिसमें मुख्य है सेक्स की इच्छा न होना और लिंग में तनाव न आना। बहुत ज्यादा मानसिक चिंता या तनाव के कारण या फिर आत्मसम्मान और विश्वास की कमी के कारण वे अपना पूरा ध्यान सेक्स में फोकस नहीं कर पाते, जिस कारण इरेक्टाइल डिस्फंक्शन जैसी समस्या उत्पन्न होती है। ऐसे रोगियों की मानसिक दशा को समझते हुए उन्हें मनोवैज्ञानिक तरह से सलाह दी जाती है, काउन्सलिंग की जाती है, ताकि उनमें आत्मविश्वास जागे और वे पूरी तरह सेक्स करने में सक्षम हो सकें।

3. पेनिस पम्प :
पेनिस पम्प का इस्तेमाल तब किया जाता है, जब रोगी के लिंग में तनाव नहीं आता या तनाव को बरकरार नहीं रख पाता। पेनिस पम्प में एक प्लास्टि की ट्यूब बनी होती है, जिसे लिंग के ऊपर लगाया जाता है। यह बैटरी से चलने वाला यंत्र होता है। पम्प करने पर यह उपकरण के अंदर से हवा को निकलता है, जिससे एक वैक्यूम का निमार्ण होता है, जो लिंग में खून के प्रवाह को दुरूस्त करता है, जिससे लिंग में तनाव आने लगता है।

4. टेस्टोस्टेरोन :
जो पुरूष, टेस्टोस्टेरोन के कम स्तर की वजह से सेक्स समस्या से जूझ रहे हैं, उन्हें यह इलाज दिया जाता है।

सेक्स समस्या के इलाज की जरूरत किसे पड़ती है?

सेक्स एक ऐसी इच्छा है, जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है, इसलिए सेक्स समस्या किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। जो व्यक्ति अपनी गलत खानपान, बिगड़ी हुई लाइफ स्टाईल और बचपन की गलतियों के कारण सेक्स समस्याओं के शिकार हैं, उन्हें सेक्स समस्याओं के इलाज की जरूरत पड़ सकती है। बस बात सिर्फ इतनी होती है कि उम्र के हिसाब से इसका इलाज भी अलग-अलग होता है।

सेक्स समस्या के इलाज के लिए कौन योग्य नहीं है?

सेक्स समस्या के इलाज की जरूरत ही उस पुरूष को पड़ती है, जो सेक्स क्रीड़ा के दौरान होने वाली हर सेक्सुअल एक्टिविटी में असंतुष्ट रह जाता है और चरम तक नहीं पहुंच पाता।
ऐसा व्यक्ति जब इलाज के लिए चिकित्सक के पास जाता है, तो चिकित्सक सबसे पहले रोगी से उसके रोग का इतिहास जानकर पूरी शारीरिक जांच करता है, ताकि यह पता लगा सके कि इलाज के लिए आये व्यक्ति को वाकई कोई सेक्स समस्या है भी या फिर यह उसकी केवल एक मानसिकता है। या सेक्स समस्या का इलाज मौखिक दवा से हो जायेगा या फिर सर्जरी की आवश्यकता पड़ेगी। यह पता करने के लिए कौन-कौन लोग सेक्स समस्या के इलाज के योग्य हैं या नहीं हैं, एक बार सेक्सोलाॅजिस्ट से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।

क्या सेक्स समस्या के इलाज का कोई साइड इफेक्ट भी हैं?

नहीं, आयुर्वेदिक/हर्बल दवाओं का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता। चिकित्सक द्वारा किसी भी रोग के इलाज का उद्देश्य, रोगी को बिना कोई दुष्परिणाम के स्वस्थ करना होता है। इसी तरह सेक्स समस्या का इलाज भी पूरी तरह सुरक्षित है।

सेक्स समस्या के इलाज के बाद रोगी को क्या जरूरी दिशा-निर्देश दिये जाते हैं?

सेक्स समस्या के इलाज के बाद चिकित्सक, रोगी को सबसे अधिक उनकी बिगड़ी हुई लाइफ स्टाइल को सुधारने की सलाह पर जोर देते हैं। जैसे कि नियमित व्यायाम करना, समय पर सोना व जागना, शराब व धूम्रपान से दूर रहना और सबसे जरूरी संतुलित आहार लेना। इसके अलावा बुरी संगत व बचपन की गलतियों के कारण आई सेक्स समस्या से सीख लेकर अपनी गलत आदतों में बदलाव लाने का प्रयास करना।

सेक्स समस्या के इलाज में कितना समय लगता है?

हर रोगी यही चाहता है कि उसका रोग जल्द से जल्द दूर हो जाये। सेक्स समस्या में भी ऐसा ही है। लेकिन इलाज में कितना समय लगेगा, इसका अनुमान पुरूष रोगी के रोग की दशा, उम्र, स्थानीय जलवायु व अन्य आधार पर ही लगाया जा सकता है। साथ ही क्या इलाज दिया जा रहा है, उस पर भी निर्भर करता है।

भारत में सेक्स समस्या के इलाज का खर्च कितना है?

सेक्स समस्या के लिए एक सप्ताह की दवाओं(मौखिक दवाएं) की लागत 900रु. से 6500रु. तक आ सकती है। इंजेक्शन का खर्च 6000रु. तक, यदि बात की जाये लिंग पंप(Penis Pump) की, तो इसमें लगभग 1800रु. तक का खर्चा हो जाता है। सेक्स समस्या के इलाज का खर्चा अधिक भी हो सकता है।

क्या सेक्स समस्याओं का स्थाई इलाज होता है?

सेक्स समस्या के उपचार में आयुर्वेदिक/हर्बल दवाएँ एक स्थायी इलाज है।

सेक्स समस्याआ के उपचार में विकल्प क्या हैं?

सेक्स कमजोरी या सेक्स समस्याओं के उपचार के लिए कई विकल्प हैं, जैसे कि लाइफ स्टाइल में सुधार लाना, व्यायाम (Exercise) को दिनचर्या में शामिल करना, पोषक तत्वों की आपूर्ति, हर्बल औषधियाँ, एक्यूपंक्चर, आयुर्वेदिक उपचार पद्धति और टेस्टोस्टेरोन ट्रीट्मैन्ट प्रक्रिया आदि।
उपरोक्त बताये गये विकल्प को उपयोग में लाने से पहले चिकित्सक/सेक्सोलाॅजिस्ट की सलाह अनिवार्य है।

सेक्स समस्या के लिए अच्छी जड़ी-बूटी कौन सी है?

कभी-कभी शरीर में कमजोरियों की कमी के कारण भी सेक्स समस्याएँ उत्पन्न हो जाती हैं। एक सुखद और स्वस्थ यौन जीवन पाने के लिए हमें सप्तधातुओं की जरूरत होती है। लेकिन कोई भी जड़ी-बूटी लेने से पहले सेक्सोलाॅजिस्ट से सलाह अवश्य ले लें।
सेक्स समस्या को दूर करने के लिए अश्वगंधा, शिलाजीत, गोखरू, सालम पंजा, सफेद मूसली आदि बहुत ही उत्तम हैं। जड़ी-बूटी लिंग की नसों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है, जिससे लिंग का सीधा न हो पाना और तनाव न आने की समस्या दूर होती है।

सेक्स समस्या के प्राकृतिक इलाज क्या हैं?

यदि व्यक्ति अपनी लाइफ स्टाइल को सुधार कर, खान-पान का ध्यान रखकर और शरीर का रख-रखावा करके जीवन जिए तो सेक्स रोग क्या, कोई भी रोग उन्हें छू नहीं सकता।
ये हैं वो प्राकृतिक उपाय और इलाज, जिनसे बिना दवाओं के भी पुरूष अपनी सेक्स समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।
1. एक्सरसाइज :
हर व्यक्ति को रोजाना व्यायाम करना बहुत जरूरी है। यह स्वास्थ्य के लिए तो अच्छा होता ही है, साथ ही सेक्स समस्या में आराम पहुंचाने में भी एक अच्छा विकल्प है। व्यायाम से पूरी बाॅडी में रक्त संचार बढ़िया से काम करता है, जिससे लिंग की नसों में भी तनाव आता है और सेक्स की समस्या समाप्त होती है।

2. पोषक तत्वों की आपूर्ति :
पुरूषों की सेक्स समस्या में सबसे बड़ी समस्या इरेक्टाइल डिसफंक्शन व शीघ्रपतन अधिक देखने को मिलती है, जिसके लिए पोषक तत्व की कम आपूर्ति भी जिम्मेदार होती है। सेक्स समस्या के लिए स्वस्थ खाद्य पदार्थों का सेवन करना जरूरी है। पोषक आहार में ताजे फल, हरी सब्जियाँ, साबुत अनाज, मछली लेना फायदेमंद होता है।

3. पर्याप्त नींद जरूरी :
आप चाहे यकीन न करें, मगर यह सच है कि अच्छी और गहरी नींद को सेक्स समस्या के उपचार के लिए बहुत फायदेमंद माना गया है। यह एक शुद्ध प्राकृतिक उपचार है। पर्याप्त नींद लेना तो वैसे भी सेहत के लिए लाभकारी सिद्ध होता है। पर्याप्त नींद लेने से पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है, जिस कारण उनकी यौन क्षमता में लाभ पहुंचता है।

4. धूम्रपान से दूरी :
सेक्स समस्या के प्राकृतिक इलाज में धूम्रपान का त्याग करने की भी सलाह दी जाती है। धूम्रपान सीधे तौर पर पुरूषों में कई प्रकार की यौन समस्याएँ उत्पन्न करता है, जिनमें इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और ‘निल’ शुक्राणु प्रमुख हैं। अधिक धूम्रपान करने से लिंग की नसें भी प्रभावित होती हैं, जिससे लिंग में तनाव की कमी आती है, इसलिए सेक्स समस्या को दूर करने के लिए धूम्रपान को खुद से दूर करें और स्वस्थ सुखद सेक्स लाइफ जिएँ।

5. शराब से नाता तोड़ें :
जैसे धूम्रपान सेक्स समस्या की जन्मदाता है, ठीक वैसे ही अधिक शराब पीने से भी सेक्स समस्या उत्पन्न होती है। पुरूषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या उत्पन्न करने में अधिक मदिरापान भी जिम्मेदार होती है, इसलिए लिंग में तनाव की समस्या है, तो आज ही शराब से नाता तोड़ें।